दलित मुस्लिम एकता- एक दिखावा या सच

गुजरात में ऊना की घटना के बाद से विदेशी फंडिंग की मदद से दलितों के उत्थान के नाम पर रैलियां कर बरगलाया जा रहा है। इन रैलियों में दलितों के साथ साथ मुसलमान भी बढ़ चढ़कर भाग ले रहे है।  ऐसा दिखाने का प्रयास किया जा रहा है कि मुसलमान दलितों के हमदर्द है। सत्य यह है कि यह सब वोट बैंक की राजनीती है। दलितों और मुसलमानों के समीकरण को बनाने का प्रयास है जिससे न केवल देश को अस्थिर किया जा सके। अपितु हिंदुओं कि एकता का भी ह्रास हो जाये। देश में दलित करीब 20 फीसदी है और मुस्लमान 15 फीसदी। दोनों मिलकर 35 फीसदी के लगभग। रणनीतिकार ने सोचा है कि दोनों मिलकर एक मुश्त वोट करेंगे तो जीत सुनिश्चित है। क्योंकि सभी जानते है कि बाकि हिन्दू समाज तो ब्राह्मण, क्षत्रिय, बनिया, यादव आदि में विभाजित है। गौरतलब बात यह है कि दलितों को भड़काने वालों के लिए  डॉ अम्बेडकर के इस्लाम के विषय में विचार भी कोई मायने नहीं रखते। डॉ अम्बेडकर ने इस्लाम स्वीकार करने का प्रलोभन देने वाले हैदराबाद के निज़ाम का प्रस्ताव न केवल ख़ारिज कर दिया अपितु 1947 में उन्होंने पाकिस्तान में रहने वाले सभी दलित हिंदुओं को भारत आने का सन्देश दिया। डॉ अम्बेडकर 1200 वर्षों से मुस्लिम हमलावरों द्वारा किये गए अत्याचारों से परिचित थे। वो जानते थे कि इस्लाम स्वीकार करना कहीं से भी जातिवाद की समस्या का समाधान नहीं है। क्योंकि इस्लामिक फिरके तो आपस में ही एक दूसरे कि गर्दन काटते फिरते है। वह जानते थे कि इस्लाम स्वीकार करने  में दलितों का हित नहीं अहित है।
अपने लेखन में इस्लाम के विषय में डॉ अम्बेडकर लिखते है-
मुस्लिम भ्रातृभाव केवल मुसलमानों के लिए-”इस्लाम एक बंद निकाय की तरह है, जो मुसलमानों और गैर-मुसलमानों के बीच जो भेद यह करता है, वह बिल्कुल मूर्त और स्पष्ट है। इस्लाम का भ्रातृभाव मानवता का भ्रातृत्व नहीं है, मुसलमानों का मुसलमानों से ही भ्रातृभाव मानवता का भ्रातृत्व नहीं है, मुसलमानों का मुसलमानों से ही भ्रातृत्व है। यह बंधुत्व है, परन्तु इसका लाभ अपने ही निकाय के लोगों तक सीमित है और जो इस निकाय से बाहर हैं, उनके लिए इसमें सिर्फ घृणा ओर शत्रुता ही है। इस्लाम का दूसरा अवगुण यह है कि यह सामाजिक स्वशासन की एक पद्धति है और स्थानीय स्वशासन से मेल नहीं खाता, क्योंकि मुसलमानों की निष्ठा, जिस देश में वे रहते हैं, उसके प्रति नहीं होती, बल्कि वह उस धार्मिक विश्वास पर निर्भर करती है, जिसका कि वे एक हिस्सा है। एक मुसलमान के लिए इसके विपरीत या उल्टे सोचना अत्यन्त दुष्कर है। जहाँ कहीं इस्लाम का शासन हैं, वहीं उसका अपना विश्वास है। दूसरे शब्दों में, इस्लाम एक सच्चे मुसलमानों को भारत को अपनी मातृभूमि और हिन्दुओं को अपना निकट सम्बन्धी मानने की इज़ाजत नहीं देता। सम्भवतः यही वजह थी कि मौलाना मुहम्मद अली जैसे एक महान भारतीय, परन्तु सच्चे मुसलमान ने, अपने, शरीर को हिन्दुस्तान की बजाए येरूसलम में दफनाया जाना अधिक पसंद किया।” (बाबा साहेब डॉ. अम्बेडकर सम्पूर्ण वाड्‌मय, खंड १५-‘पाकिस्तान और भारत के विभाजन, २०००)
व्यावहारिक रूप से भी में कुछ घटनाओं का विवरण दे रहा हूँ जिसमें मुसलमान जमीनी स्तर पर दलितों पर अत्याचार करने में लगे हुए है।
1. मुज्जफरनगर के दंगों में मुसलमानों के आक्रोश के कारण दलितों को अपने घर छोड़कर अपनी जान बचाने के लिए भागना पड़ा। तब न उन्हें बचाने मायावती आयी न दलित-मुस्लिम एकता का समर्थन करने वाला कोई दोगला आया। link http://indianexpress.com/article/cities/lucknow/muzaffarnagar-two-years-after-riots-fir-against-12-for-attacking-dalit-family/
2. नवम्बर 13, 2014 शामली के सोनाटा गांव में हैंडपंप से पानी भरने को लेकर दलितों और मुसलमानों के मध्य दंगा हुआ। मुसलमान दलितों को हैंडपंप से पानी भरने से रोक रहे थे। link   http://indiatoday.intoday.in/story/communal-violence-uttar-pradesh-dalit-muslim-clash-sonata-village-matkota-area/1/400498.html
3. मार्च 8, 2016 को वेल्लोर तमिल नाडु में दलितों को तालाब में नहाने पर मुसलमानों ने लड़ाई दंगा किया। link  http://www.thenewsminute.com/article/vellore-tense-trivial-argument-blows-muslim-dalits-clash-39980
4.  फरवरी 24, 2016 को रविदास जयंती के अवसर पर संत रविदास की झाँकी निकालते हुए दलितों पर मुसलमानों ने पत्थर बाजी करी।  जिससे दंगा भड़क गया। link http://www.hindupost.in/news/another-riot-in-up-between-muslims-and-hindu-dalits/
5. दिसम्बर 3, 2015 को मुज्जफरनगर के कताका गांव में मुसलमानों ने दलितों को पीटा। link http://indianexpress.com/article/india/india-news-india/7-hurt-in-clash-between-dalit-muslim-groups/
ऐसे अनेक उदहारण हमें वर्तमान में मुसलमानों द्वारा दलितों पर हो रहे अत्याचार के मिल सकते है। इसलिए दलित-मुस्लिम एकता केवल एक छलावा है। दलितों को डॉ अम्बेडकर कि बात की अनदेखी कर किसी के बहकावें में आकर अपना अहित नहीं करना चाहिए।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s